Lucknow Politics Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi में सपा के लोगों ने दिया धरना : हिरासत में लिए गए कार्यकर्ता, बोले महानगर अध्यक्ष- राज्यपाल को भेजेंगे ज्ञापन

Varanasi : समाजवादी पार्टी के मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लखनऊ में हिरासत में लिए जाने के बाद समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने राज्य में प्रदर्शन शुरू कर दिया। वाराणसी में भी सुबह से ही जिला मुख्यालय, मैदागिन चौराहा, बीएचयू सिंहद्वार सहित शहर के कई जगहों और ग्रामीण अंचलों में भी प्रदर्शन किया।

जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन कर रहे समाजवादी कार्यकर्ताओं को DCP वरुणा ने समझाने की कोशिश की, पर अड़ियल रवैये के बाद उन्हें बल पूर्वक गाड़ियों में डालकर पुलिस लाइन ले जाय गया। मैदागिन चौराहे पर किशन दीक्षित के नेतृत्व में बैठे कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने जबरन उठाकर पुलिस लाइन भेजा।

जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे महानगर अध्यक्ष विष्णु शर्मा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी, भारतीय जन विरोधी पार्टी हो गयी है। केंद्रीय मंत्रीमंडल में शामिल नेता के बेटे ने जिस तरह से किसानों को गाड़ी से कुचलकर मारा यह तानाशाही है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष को पहले हाउस अरेस्ट और फिर हिरासत में लिया गया यह गलत है। विष्णु शर्मा ने कहा कि इमरजेंसी में भी ऐसे हालत नहीं थे। देश के आज जो हाल है वह इमरजेंसी से भी खराब है। हम राज्यपाल को एक ज्ञापन भी भेजेंगे कि प्रदेश की सरकार को तत्काल प्रभाव से भंग करें।

जिला मुख्यालय पर चल रहे धरने की सूचना पर पहुंचे DCP वरुणा विक्रांत वीर ने पहले समझाया, पर जब बात नहीं बनी तो उन्होंने बलपूर्वक उठाकर गाड़ियों में भरकर पुलिस लाइन भेज दिया गया। DCP वरुणा ने बताया कि हमें सूचना मिली थी कि कुछ लोग जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन कर रहे हैं, जहां इसकी इजाजत नहीं है। उन्हें समझाया गया। फिर हटा दिया गया है। कहा कि उन्हें उठाकर वहां से गाड़ियों में बैठा कर अन्यत्र भेजा गया है।

दूसरी तरफ मैदागिन चौराहे पर किशन दीक्षित के नेतृत्व में बैठे समाजवादी कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने बल पूर्वक उठाकर पुलिस लाइन भेज दिया।

You cannot copy content of this page