उत्तर प्रदेश एडिटोरियल बड़ी बोल 

#बतकहीबाज : … सबने इंसान न बनने की कसम खाई है!

हालात आजकल

निदा फाजली का शेर है- कोई हिंदू, कोई मुस्लिम, कोई ईसाई है, सबने इंसान न बनने की कसम खाई है। पता होगा, गाजियाबाद पुलिस ने उस शख्स को गिरफ्तार कर लिया है जिसने बच्चे को मंदिर में पानी पीने के लिए पीटा था। आरोपी शख्स ने पिटाई का वीडियो क्लिप इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया था। आरोपी की करतूत देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वायरल भी हो गई हो गई थी।

दरअसल, राज्य के गाजियाबाद में एक मंदिर में पानी पीने गए बच्चे की पिटाई का मामला सोशल मीडिया के मार्फत सामने आया। पिटाई करने वाले शख्स ने वीडियो क्लिप इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया था। प्रकरण जानकारी में आने के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने ट्वीट कर दी जानकारी

गाजियाबाद पुलिस ने ट्वीट कर बताया है कि वीडियो क्लिप संज्ञान में आने के बाद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी का नाम श्रृंगी नंदन यादव है। वह बिहार के भागलपुर का रहने वाला है। बताया, आरोपी के खिलाफ मुकदमा कायम कर विधिक कार्रवाई की जा रही है। वायरल वीडियो क्लिप में जिस बच्चे की पिटाई की जा रही है उसकी भी तलाशा की जा रही है।

कोई आदमी न मिला

वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर पोस्ट कर लोग यादव के हरकत की निंदा कर रहे हैं। आरोप है, यादव इस तरह के कई हिंसात्मक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर पहले भी पोस्ट-शेयर करता रहा है। वायरल हो रहे वीडियो क्लिप में यादव पहले बच्चे से नाम पूछता है। बच्चा अपना नाम बताता है। यादव सवाल करता है कि मंदिर में क्या करने के गए थे? बच्चा जवाब देता है कि मैं पानी पीने गया था। यादव बच्चे की पिटाई करने लगता है। इंसानियत को शर्मसार करने वाली इस घटना को लोग अपने-अपने नजरिए से देख रहे हैं। खैर, बशीर बद्र के इस शेर के साथ बात खत्म- घरों पे नाम थे, नामों के साथ ओहदे थे, बहुत तलाश किया, कोई आदमी न मिला।

दैहिक समीक्षा जरूरी

श्रृंगी नंदन यादव ने बच्चे के गाल पर नहीं बल्कि इंसानियत के मुंह पर तमाचा जड़ा है। कहा, निसंदेह ये कानूनी दायरे के बाहर है लेकिन उसने जिस बच्चे की पिटाई की है उसी बच्चे से यादव की दैहिक समीक्षा करानी चाहिए। मनीष राय, अधिवक्ता, वाराणसी न्यायालय।

You cannot copy content of this page