Education Varanasi 

दिखायी गई फिल्म, पैनलिस्टों ने की समीक्षा : बोले प्रो. अजीत शुक्ला- भारतीय शिक्षा की बेहतरी में डॉ. राधाकृष्णन का योगदान अमूल्य

Varanasi : महामना मदन मोहन मालवीय हिंदी पत्रकारिता संस्थान, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की ओर से शिक्षक पखवारा के तहत ‘फिल्म स्क्रीनिंग’ की गई। समिति कक्ष में डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के ऊपर दिखाये गये 10 मिनट की शार्ट फिल्म की विद्वान पैनलिस्टों ने समीक्षा की।

मुख्य अतिथि काशी विद्यापीठ वाणिज्य संकाय के पूर्व संकायाध्यक्ष प्रो. अजीत कुमार शुक्ल ने फिल्म की समीक्षा करते हुए इसके बिंदुओं पर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि राधाकृष्णन जी ने भारतीय दर्शन, संस्कृति, विचार को दुनिया के सामने रखा। इंडियन फिलासफी पर राधाकृष्णन जी काफी बातें की हैम। भारतीय शिक्षा के बेहतरी में इनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग इनकी ही देन है। उनकी विद्वता से प्रभावित होकर विश्व के कई विश्वविद्यालयों ने उन्हें डाक्टरेट की मानद उपाधि दी।

विशिष्ट अतिथि समाज कार्य की डॉ. निमिषा गुप्ता ने राधाकृष्णन जी की शिक्षा दर्शन और जीवन केंद्रित शिक्षा और इसमें गुणात्मक सुधार तथा कौशल की बात बताई। कहा कि ज्ञान में विस्तार नहीं गहराई की जरूरत है। फिल्म के बारे बताया कि हम कोई भी चीज याद करने से ज्यादा बेहतर उसे करके सीख सकते हैं। डॉ. राजमुनि ने कहा कि किसी भी समाज की बुनियादी जरूरत है, स्वास्थ्य, शिक्षा, न्याय और सुरक्षा।

बेहतर समाज बनाने के लिए हमें स्वयं को बदलना होगा। डॉ. अखिलेश ने भी सर्वपल्ली जी के बहुआयामी व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। अतिथियों का स्वागत पत्रकारिता संस्थान के निदेशक प्रो. अनुराग कुमार एवं संचालन शोध छात्र मोहम्मद जावेद और धन्यवाद डॉ. श्रीराम त्रिपाठी ने किया।

कार्यक्रम में डॉ. संगीता घोष, डॉ. विजय रंजन, डॉ. अनुकुल चंद राय, डॉ. जय प्रकाश श्रीवास्तव, डॉ. जिनेश कुमार सहित छात्र दीपक यादव, अमित जायसवाल, सरोज राय, राजेश, उमा भारती, विपिन, वंदना गुप्ता, मनीष यादव, अभिषेक, सूरज चौबे, आयुषी तिवारी, रश्मि, स्मिता, मोनिषा, ऋषभ, मिथिलेश, शशिकांत, आयुष, कुमारी जया, धन्याश्री, रिया, सृष्टि, वर्तिका और सहित विश्वविद्यालय के अन्य अध्यापक और कर्मचारी मौजूद थे।

You cannot copy content of this page