The new generation can learn a lot from Acharya Narendra Dev : Prof. TN Singh

Varanasi : महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के शताब्दीवर्ष में आचार्य नरेंद्रदेव जी की जयंती के अवसर पर आचार्य नरेंद्रदेव छात्रावास स्थित नरेंद्रदेव जी की प्रतिमा पर छतरी के निर्माण कार्य का अनावरण कुलपति प्रो. टीएन सिंह ने किया। छात्रावास व छात्रकल्याण संकाय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित ‘आचार्य नरेंद्रदेव एवं काशी विद्यापीठ’ विषयक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. सिंह ने कहा कि महान देशभक्त, प्रकांड विद्वान व महामनीषी आचार्य नरेंद्रदेव जी का जीवन और चिंतन बहुआयामी था जिससे देश की नई पीढ़ी प्रेरणा ग्रहण करके उज्जवल भविष्य का निर्माण कर सकती है।

संगोष्ठी को संबोधित करते हुए जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति व गंगापुर परिसर के निदेशक प्रो. योगेंद्र सिंह ने कहा कि आचार्य नरेंद्रदेव जी विद्वान, क्रांतिकारी जननायक और भारतीय समाजवादी आंदोलन के जनक थे। अध्यक्षीय संबोधन करते हुए छात्र कल्याण संकाय के संकायाध्यक्ष डॉक्टर बंशीधर पांडेय ने कहा कि आचार्य नरेंद्रदेव जी के व्यक्तित्व के तमाम आयामों में से एक आयाम उनका प्रबंधकीय कौशल भी था जिसने विद्यापीठ को देश की शिक्षण संस्थाओं में अद्वितीय स्थान दिलाया। कार्यक्रम के संयोजक व मुख्य गृहपति डॉ. विनोद कुमार सिंह ने स्वागत भाषण में कहा कि आचार्य नरेंद्रदेव जी बौद्ध दर्शन के प्रकांड विद्वान भी थे।

संगोष्ठी का संचालन गृहपति डॉ. दुर्गेश उपाध्याय और धन्यवाद ज्ञापन गृहस्वामिनी डॉ. नंदिनी सिंह ने किया। इस अवसर पर कुलानुशासक प्रो. संतोष कुमार, एनटीपीसी परिसर के निदेशक प्रो. सभाजीत यादव, मनोविज्ञान विभागाध्यक्ष प्रो. आरपी सिंह, एनएसएस समन्वयक केके सिंह, डॉ. भारती रस्तोगी, डॉ. सुमन ओझा, डॉ. मुकेश पंथ, डॉ. रीना चटर्जी, डॉ. अमरेंद्र सिंह, डॉ. रमेश कुमार सिंह, सुभाष चंद्र मिश्र, डॉ. रामनारायण सिंह, महेंद्र पांडेय, नंदकुमार झा आदि लोग मौजूद थें।