Breaking Crime Varanasi ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

UP STF की कार्रवाई : मिलेट्री इंटिलिजेंस के बताने पर सेना भर्ती के नाम पर ठगी करने वाले दो ठग पकड़े गए

Varanasi : सेना भर्ती को लेकर अक्सर जालसाजी सामने आती है पर उसके बावजूद लोग ऐसे लोगों के जाल में आसानी से फस जाते हैं। ऐसे ही युवाओं को ठगने वाले दो जालसाजों को बुधवार को UP STF ने वाराणसी से पकड़ने में सफलता प्राप्त की है। पकड़े गए अभियुक्तों में एक इस गैंग का सरगना और दूसरा उसका गुर्गा है। इन्हें वाराणसी कैंटोनमेंट एरिया से पकड़ा गया है।

UP STF ने जालसाजों की शिनाख्त क्रमशः अमित कुमार चौधरी निवासी कोकर, रांची, झारखंड और सचिन कुमार पांडेय निवासी न्यू हैदर बली रोड, बजरग नगर, रांची, झारखंड के रूप में की है। फिलहाल एसटीएफ ने आवश्यक पूछताछ के बाद दोनों को कैंट थाने की पुलिस को सौंप दिया है। STF की वाराणसी इकाई के एडिशनल एसपी विनोद सिंह ने बताया कि दोनों के पास से 5 फेक नियुक्ति पत्र, 7000 हजार रुपये और एक लग्जरी कार भी बरामद हुई है।

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश एसटीएफ को सूचना मिली थी कि वाराणसी सहित अन्य जिलों में सेना भर्ती के नाम पर एक गैंग बेरोजगार युवाओं को ठग रहा है। इसपर हमने टीम गठित कर कार्य शुरू किया जिसपर सर्विलांस और मुखबिरों ने सूचना दी कि आर्मी भर्ती के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के लोगों ने कई जनपदों के युवाओं को छावनी के डाक बंगले में बुलाया है। छापेमारी की गयी तो सरगना और अन्य वहां से जा चुके थे।

डाक बंगले में मौजूद युवाओं ने बताया की सरगना अमित अभी निकला है और उसकी कार का नंबर दिया जिसके बाद उन्हें कुछ ही देर में छावनी इलाके से ही गिरफ्तार कर लिया गया। सीओ एसटीएफ ने बताया कि पूछताछ में अमित ने कहा कि उसका अंतरराज्यीय गिरोह है। छावनी क्षेत्र स्थित डाक बंगले में कमरा बुक करा कर वह विभिन्न राज्यों के लड़कों को मिलिट्री इंजिनियरिंग सर्विस (MES) में भर्ती के नाम पर बुलाया था। उसने सभी का फिंगर प्रिंट लिया था। इसके बाद कबीरचौरा मंडलीय अस्पताल से मेडिकल कराया था।

इस काम के लिए एडवांस 1 से 2 लाख रुपए पहले वह लेते हैं। मेडिकल कराने के बाद 4 लाख रुपए फिर लेता है। पैसा मिल जाने के बाद फर्जी नियुक्ति प्रमाण पत्र संबंधित लड़के के पते पर पोस्ट से भेजा जाता है। बताया कि उसके गैंग का सदस्य राकेश कुमार बिष्ट MES की फर्जी आईडी दिखाकर लडकों को फंसाकर लाता है। फिलहा एसटीएफ इनके अन्य संबंधों की तलाश में लग गया है।

You cannot copy content of this page