Varanasi धर्म-कर्म 

Varanasi : डीएम ने सपरिवार की पंचकोशी यात्रा, दर्शन-पूजन के साथ सुनी जनता की समस्या

Varanasi : अधिकमास में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सोमवार को सपरिवार पंचकोस यात्रा पर निकले है। इस दौरान वह श्रद्धालुओं की दिक्कतों का स्थलीय निरीक्षण किया। मणिकर्णिका घाट के चक्रपुष्कर्णी कुंड पर संकल्प के साथ डीएम ने परिवार के साथ पंचकोसी यात्रा की शुरुआत की। साथ उनकी मां, पत्नी, और उनके पुत्र के साथ कमिश्नर दीपक अग्रवाल की पत्नी भी मौजूद रही।  यहाँ से वो सीधे बाबा विश्वनाथ के दरबार में मत्था टेकने गए और फिर यात्रा शुरू की।

हर पड़ाव पर श्रद्धालुओं, मंदिर के पुजारियों, व्यवस्थापकों के साथ ही साथ धर्मशालों की व्यवस्थाओं का स्थलीय निरीक्षण भी किया। बताया कि हमने श्रद्धालु, मंदिर के पुजारियों, व्यवस्थापकों और धर्मशाला के मालिकों से मंत्रणा की है ताकि श्रद्धालुओं की सुख सुविधा का ख्याल रखा जा सके। बताया कि पंचकोस यात्रा से लोकल पर्यटन का बहुत ज़्यादा स्कोप है। आस पास के जनपद के लोग काशी की इस परिक्रमा का महत्त्व जानते हैं और यहाँ यह यात्रा करने के लिए आते हैं और उसे श्रद्धा के साथ पूरा करते हैं।

तृतीय पड़ाव रामेश्वर तीर्थ में सुनी समस्या

पंचकोशी के तृतीय पड़ाव रामेश्वर तीर्थ धाम पहुंचकर मत्था टेका। ब्राह्मणों द्वारा वैदिक मंत्र उच्चारण के साथ स्वागत किया गया। डीएम ने विधिवत दुग्धाभिषेक किया। वहां से चौथे पड़ाव शिवपुर निकले। रामेश्वर गांव की आधा दर्जन महिलाओं ने डीएम से अपनी समस्या कही। बोली श्मशान घाट पर जाने के लिए रास्ते नहीं है, लाइट की सुविधा नहीं है। ग्राम प्रधान पर आवास बनाने को लेकर बीस-बीस हजार रुपये सुविधा शुल्क लेने का आरोप भी लगाया। जिलाधिकारी ने जांच कराने का आश्वासन दिया। डीएम ने बताया कि धर्मशाला के बेचने का प्रकरण संज्ञान में आया है। जिसकी जांच उप जिलाधिकारी राजातालाब को करने का निर्देश दिया गया है। ग्रामीणों ने पंचकोशी रोड पर लग रहे स्टोन पर विरोध भी जताया। आरोप था कि मंदिर परिसर में जाने वाले मार्ग पर पत्थर गाड़कर कर रोड को सकरा किया जा रहा है जिसकी वजह से आवागमन में परेशानी होगी। डीएम ने पर्यटन विभाग को जांच का आदेश दिया।

अतिक्रमण करने पर होगी कार्रवाई 

धर्मशालाओं में श्रद्धालुओं के रुकने के विवाद और अतिक्रमण पर कहा कि अधिकतर धर्मशालाएं प्राइवेट हैं। श्रद्धालुओं ने डोनेट की, पिछले साल रामेश्वर ने किसी ने अपनी धर्मशाला की रजिस्ट्री करवा दी थी। इस बात की जानकारी पर हमने टीम भेजकर कागज़ात निकलवाए और सभी पड़ावों की धर्मशालाओं के कागज़ात के लिए तहसील की टीम बनायीं और इस कार्य में लगायी है। कंदवा में कुछ लोगों ने दुकाने बनानी शुरू कर दी हैं। यदि कोई इलीगल इंक्रोचमेंट है तो उसे धवस्त कर कार्रवाई होगी।

यात्रा समाप्त

पंचकोशी यात्रा के आखरी पड़ाव कपिलधारा स्थित धर्मशाला और मंदिर का भ्रमण और पूजा- अर्चन करके डीएम पुनः मणिकार्णिकाघाट घाट पहुंचे, वहां वह संकल्प छुड़ाकर यात्रा पूर्ण करेंगे।

error: Content is protected !!