Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Case : एडवोकेट विष्णु जैन ने कहा- अगर फौव्वारा है तो चलाकर दिखाएं, हम शिवलिंग को प्रमाणित करने के लिये सभी बातें सामने लाकर रहेंगे

Varanasi : सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता और ज्ञानवापी मामले में वादी राखी सिंह के एडवोकेट विष्णु शंकर जैन (Advocate Vishnu Shankar Jain) और उनके पिता एडवोकेट हरिशंकर जैन (Advocate Harishankar Jain) ने बुधवार को वाराणसी में प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान विष्णु शंकर जैन ने प्रतिवादी पक्ष की ओर से शिवलिंग (Gyanvapi Shivling) को लगातार फौव्वारा बताये जाने पर आपत्ति जाहिर करते हुए कहा कि अगर वो फौव्वारा (Fountain) है तो उसे चलाकर दिखाएं। साथ ही विष्णु जैन ने ये भी कहा कि वो (प्रतिवादी पक्ष) हमें नीचे जाने से क्यों मना कर रहे हैं। हम लोग उसे शिवलिंग प्रूफ करने के लिए जितनी भी बातें है उसे सामने लेकर आएंगे।

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता विष्णु जैन (Advocate Vishnu Jain) ने मस्जिद के फव्वारे के नाम से वायरल किये जा रहे वीडियो को देखकर पुष्टि की कि यही वह शिवलिंग (Shivling) है जिसे उन्होंने मस्जिद परिसर में स्थित हौज़ में देखा था।

शिवलिंग के आकार को नापने की इजाजत दे कोर्ट
विष्णु जैन ने आगे कहा कि इस वीडियो में सिर्फ ऊपर का हिस्सा दिख रहा है। इसमें व्यास जी का तहखाना नहीं दिख रहा है। इसलिए हमने कल कोर्ट में एक याचिका दायर की है कि जो व्यास जी के तहखाने में दीवार है उसे खोला जाए और जो शिवलिंग के नीचे दीवार है उसे खोला जाए और शिवलिंग के आकर को नापने की इजाज़त दी जाए और अब मान्य न्यायालय उसपर ऑर्डर देगा और जो भी सुनवाइयां होगी हम उसमे आते रहेंगे।

वहीं जब उनसे कहा गया कि आप के ऊपर और हरिशंकर जी के ऊपर अफवाह फैलाने का आरोप लग रहा है। इसपर विष्णु शर्मा ने कहा कि हम लोग एक वकील हैं और वकील के रूप में हमारी ड्यूटी होती है कि जो लोगों की आवाज है उसे लीगली कोर्ट में लेकर जाएं। अगर लोगों को लगता है कि वहां शिवलिंग था। वहां पर हिंदू देवी-देवताओं की पूजा होती थी इतिहास में और उसकी बेअदबी की जा रही है तो सिर्फ सौहार्द बनाने के लिए आप ऐसा नहीं कह सकते हैं कि हम वो बात हो लेकर कोर्ट में न जाएं। कोर्ट में जाना हमारा लीगल हक है और हम अपने लीगली लड़ाई लड़ रहे हैं।

ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे (Gyanvapi Mosque Survey) के बाद सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के वरिष्ठ अधिवक्ता हरिशंकर जैन (Senior Advocate Harishankar Jain) की तबियत खराब होने की बात सामने आयी तो लोगों ने उसे अफवाह बताया, पर बुधवार को अधिवक्ता हरिशंकर जैन ने अस्पताल से ही प्रेस कांफ्रेंस कर इस बात का खंडन कर दिया। हिरशंकर जैन ने रवींद्रपुरी स्थित हॉस्पिटल में अपने बेटे विष्णु जैन (Vishnu Jain) के साथ एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस को सम्बोधित किया और बताया कि उनकी तबियत अब पहले से ठीक है।

You cannot copy content of this page