Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Case : दूसरे दिन भी सुनवाई टली, कमीशन कोर्ट की रिपोर्ट दाखिल, शिवलिंग वाले जगह पर दर्शन-पूजन सहित अन्य मामलों में अब 23 मई को हियरिंग

Varanasi : ज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग मिलने के दावे सहित सभी मुद्दों पर आपत्ति तलब कर निपटारे के लिए अदालत में गुरुवार को लगातार दूसरे दिन सुनवाई टल गई। अब इस मामले में 23 मई (सोमवार) को सुनवाई होगी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश की प्रति मिलने के बाद सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर की अदालत ने ये निर्णय किया।

गुरुवार को शासन की ओर से डीजीसी सिविल ने अदालत में अर्जी दी। वहीं प्रतिवादी पक्ष ने ज्ञानवापी से जुड़े तमाम मामलों में आपत्ति दाखिल कर दी है। प्रतिवादी पक्ष ने शिवलिंग मिलने के दावे पर आपत्ति जताई है। वादी पक्ष और उनके अधिवक्ताओं पर कई आरोप लगाए हैं। दोनों पक्षकारों को कमीशन के कार्रवाई की रिपोर्ट दी गई है।

DGC सिविल महेंद्र प्रसाद पांडेय ने अदालत में अर्जी देकर तीन मांगें की हैं। कहा कि ज्ञानवापी परिसर स्थित जिस तीन फीट गहरे मानव निर्मित तालाब को सील किया गया है उसके चारों तरफ पाइपलाइन और नल हैं। उस नल का उपयोग नमाजी लोग वजू के लिए करते हैं। तालाब परिसर सील होने के कारण नमाजियों के वजू के लिए बाहर व्यवस्था की जाए। सील हुए क्षेत्र में शौचालय भी है। सील होने के बाद नमाजियों को वहां नहीं जाने दिया जा रहा है। ऐसे में उनकी व्यवस्था की जाए। साथ ही तालाब में कुछ मछलियां भी हैं। उन मछलियों को अब कहीं और पानी में छोड़ा जाए।

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में कोर्ट कमीशन के कार्रवाई की पहली रिपोर्ट बुधवार को तत्कालीन कोर्ट कमिश्नर अजय कुमार मिश्र ने सौंपी। देर शाम सौंपी गई रिपोर्ट दो पेज की है। गुरुवार को विशेष कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह और सहायक कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने भी अपनी सर्वे रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल कर दी। मामले को लेकर वाराणसी कोर्ट परिसर में हलचल बढ़ गई है। मीडिया को कचहरी परिसर से बाहर रखा गया था।

सहायक कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने कहा कि सर्वे रिपोर्ट दाखिल करने से पहले दोनों पक्ष के लोग कोर्ट में मौजूद रहे। सर्वे रिपोर्ट 15 पेज की है। साथ में नक्शानजरी और कर्रवाई का विवरण भी दाखिल किया गया है। पूरी पत्रावली जज के पास है।

उधर, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को सुनवाई शुक्रवार तक स्थगित कर दी। इसके साथ देश की शीर्ष अदालत ने वाराणसी की निचली कोर्ट को आदेश दिया है कि वह तबतक इस मामले में कोई आदेश जारी नहीं करें। ज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग मिलने के दावे सहित सभी मुद्दों पर आपत्ति तलब कर निपटारे और कमीशन की रिपोर्ट जमा करने के लिए भी अदालत में आज सुनवाई होनी थी।

वादी पक्ष की रेखा पाठक, मंजू व्यास, सीता साहू की ओर से मंगलवार को स्थानीय न्यायालय में आवेदन दिया गया था कि शिवलिंग की जगह पर दर्शन-पूजन के साथ ही वजू स्थल पर मिले शिवलिंग के नीचे और नंदी महराज के सामने तहखाने के उत्तरी और पूरब की चुनी हुई दीवारों को तोड़कर सर्वे करवाया जाए।

परिसर में कई जगहों पर रखे बांस, बल्ली, ईंट और बालू का मलबा हटवाकर भी सर्वे करवाने की मांग की गई। इस पर न्यायालय ने अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी सहित अन्य प्रतिवादियों से आपत्ति मांगी थी। माना जा रहा था कि गुरुवार को दोनों पक्षों के साक्ष्य और सबूतों व तर्कों पर न्यायालय अहम निर्णय कर सकता है।

याद होगा, सात मई को कमीशन की अधूरी कार्रवाई पर 12 मई को न्यायालय ने कोर्ट कमिश्नर के साथ ही विशेष कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह और सहायक कोर्ट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह को नियुक्त किया था। इसके बाद 17 मई को अदालत ने अधिवक्ता अजय मिश्रा को कोर्ट कमिश्नर के पद से मुक्त कर दिया।

तत्कालीन कोर्ट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा ने अपनी रिपोर्ट में सात मई को हुई कमीशन की कार्रवाई में प्रतिवादी प्रदेश सरकार, जिलाधिकारी और पुलिस आयुक्त पर असहयोग का आरोप लगाया। उन्होंने लिखा है कि सात मई को 100 से ज्यादा मुस्लिम पक्ष बैरिकेड के दूसरी तरफ मौजूद थे, उनके इकट्ठा होने के बाद शासन और पुलिस नै सहयोग पर असमर्थता जाहिर की।

इसके कारण कमीशन की कर्रवाई मुकम्मल रूप से नहीं की जा सकी थी। वाराणसी में सिविल जज सीनियर डिवीजन न्यायालय के आदेशानुसार प्राचीन आदि विश्वेश्वर परिसर के बारे में राखी सिंह आदि बनाम उत्तर प्रदेश सरकार आदि वाद में कोर्ट कमीशन द्वारा वीडियोग्राफी कराने के निर्देश दिए गए थे।

छह और सात मई को हुई कमीशन की कार्रवाई में ज्ञानवापी मस्जिद की दीवारों पर देवी देवताओं की कलाकृतियां पाई गई हैं। तत्कालीन कोर्ट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा ने बुधवार को अदालत में दाखिल रिपोर्ट में बताया है कि ज्ञानवापी मस्जिद की पिछली दीवार पर शेषनाग, कमल के निशान के साथ धार्मिक चिन्ह मौजूद हैं।

दीवार के उत्तर से पश्चिम की ओर से शिलापट्ट पर सिंदूरी रंग की उभरी हुई कलाकृति है। इसमें देव विग्रह के रूप में चार मूर्तियों की आकृति दिखाई दे रही है। इस आंशिक रिपोर्ट को न्यायालय ने रिकॉर्ड में ले लिया है। सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में दाखिल दो पेज की रिपोर्ट में तत्कालीन कोर्ट कमिश्नर ने बताया कि शिलापट्ट पर चार देव विग्रह दिखाई दे रहे हैं।

चौथी आकृति साफ तौर पर मूर्ति जैसी दिख रही है और उस पर सिंदूर का मोटा लेप लगा हुआ है। इसके आगे दीपक जलाने के उपयोग में लाया गया त्रिकोणीय ताखा (गंउखा) में फूल रखे हुए थे। बैरिकेडिंग के अंदर और मस्जिद की पश्चिम दीवार के बीच मलबे का ढेर पड़ा है।

You cannot copy content of this page