Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Case : हटाए गए कोर्ट कमिश्नर का दर्द, अजय बोले- दुश्मनी निभाए होते तो सतर्क रहता, गैरों में दम कहां था, अपने ने धोखा दिया है

Varanasi : ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Mosque) मामले में सर्वे की रिपोर्ट और अन्य मामलों में सुनवाई आज टल गयी। कोर्ट ने 23 मई को अगली तारीख दी है। इसके पहले इस सर्वे से हटाए गए कोर्ट कमिश्नर (court commissioner) अजय कुमार मिश्रा (Ajay Kumar Mishra) ने अपना दर्द मीडिया से साझा किया। अपने ऊपर लगे आरोपों पर बोलते हुए कहा कि ये निजी स्वार्थ को सिद्ध करने के लिए किया गया है। अजय कुमार मिश्रा ने कहा कि हमें अपने ने धोखा दिया, गैरों में कहां दम था। उन्होंने विशाल सिंह का बिना नाम लिए कहा कि दुश्मनी (enmity) निभाए होते तो सतर्क रहते हम।

अधिवक्ता अजय कुमार मिश्रा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि न्यायालय को मैंने 6 और 7 मई को किये गए सर्वे की रिपोर्ट कोर्ट में जमा कर दी है। अब कोर्ट उसे सबमिट करता है कि नहीं यह कोर्ट का मामला है। मेरा दायित्व जो था वो मैंने पूरा कर दिया है। पूरी रिपोर्ट में मेरे द्वारा जमा की गयी रिपोर्ट का अंश लिया जाएगा या नहीं ये कोर्ट जाने।

अजय कुमार मिश्रा से जब पूछा गया कि आप को हटाकर विशाल सिंह को जिम्मेदारी दी गयी तो उन्होंने भावुक होते हुए कहा कि ये बहुत दुख की बात है और मैं उसे भूल नहीं पा रहा हूं। आप लोग बार-बार पूछकर मुझे याद दिला दे रहे हैं। मैं अपनी भावनाओं को दबा दे रहा हूं। अपने ने धोखा दिया, गैरों में कहां दम था। अजय मिश्रा ने कहा कि हमारी कोई भी चीज वायरल नहीं है जो हमारी रिपोर्ट में है उसे कोई भी व्यक्ति जाकर स्वयं देख सकता है। उन्होंने कहा कि हमारे ऊपर जो आरोप लगाए गए हैं वो सरासर गलत हैं। ऐसा निजी स्वार्थ को सिद्ध करने के लिए किया गया है।

अजय मिश्रा से जब कहा गया कि आप की इस संबंध में स्पेशल कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह से कोई बात हुई है तो उन्होंने कहा कि नहीं, और न ही मैं उनके सामने जाना चाहता हूं क्योंकि मन है, कुछ कह दे, हमारी दुश्मनी बढ़ जाए तो उससे अच्छा है कि हमारा उनका सामना कभी न हो। उन्होंने हमारा प्रेम से गला काटा है। दुश्मनी निभाए होते तो हम सतर्क होते।

You cannot copy content of this page