Breaking Varanasi ऑन द स्पॉट धर्म-कर्म पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Case : मुकम्मल सुरक्षा इंतजाम के बीच शुरू हुआ सर्वे, 11 तस्वीरों में देखें मुस्तैदी

Varanasi : ज्ञानवापी मस्जिद परिसर और श्रृंगार गौरी के सर्वे और वीडियोग्राफी अदालत से नियुक्त कोर्ट कमिश्नर पहुंच चुके हैं। अदालत से नियुक्त वरिष्ठ अधिवक्ता अजय कुमार मिश्र वादी और प्रतिवादी पक्ष के कुल 28 लोगों के साथ निरीक्षण करेंगे। इस दौरान वीडियोग्राफी भी की जायेगी। थोड़ी देर पहले सभी पक्ष के सदस्य चौक थाने पहुंचे। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सर्वे शुरू हुआ जो शाम 6 बजे तक जारी रहेगा।

इस वाद को देख रहे दिल्ली के अधिवक्ता के मुताबिक, यह सर्वे खसरा नंबर 9130 के सम्पूर्ण भूभाग का होगा जिसमे ज्ञानवापी मस्जिद परिसर भी मौजूद है। उन्होंने बताया कि सर्वे में तीन दिन का समय लग सकता है। इस दौरान जब कोर्ट कमिश्नर के साथ प्रतिवादी पक्ष अंदर जाने लगा तो दोनों ओर के कुछ युवकों ने नारेबाजी की। सभ्रांत लोगों और पुलिस ने तुरंत उन युवकों को शांत कराया। पास ही स्थित एक गली में लेकर चले गए।

शुक्रवार को सिविल जज सीनियर डिवीजन अदालत से नियुक्त कोर्ट कमिश्नर वरिष्ठ अधिवक्ता अजय कुमार मिश्र ज्ञानवापी परिसर का सर्वे करेंगे। इसके पहले मुस्लिम बंधुओं ने ज्ञानवापी मस्जिद में जुमे की नमाज अदा की। देश में अमन और चैन की दुआ की। ईद के बाद हुए इस जुमे की नामज में ज्यादा लोगों ने नमाज अदा की। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जुमे की नमाज सकुशल अदा की गयी। नमाजी धीरे-धीरे नमाज अदा कर अपने घरों को लौट रहे हैं।

आज से शुरू होने वाले कोर्ट कमिश्नर सर्वे के लिए कोर्ट कमिश्नर और वादी पक्ष और प्रतिवादी पक्ष की तरफ से नामित सदस्य चौक थाने पहुंचे। वादी पक्ष के अधिवक्ता शिवम गौंड ने बताया कि वह दिल्ली के हैं और पिछले कई वर्षों से यह मुकदमा देख रहे हैं। उन्होंने कहा कि चार, पांच और 6 अप्रैल को हुई साढ़े चार घंटे की बहस के बाद इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सर्वे के फैसले पर 30 अप्रैल को मुहर लगा दी है। कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि वीडियोग्राफी से किसी पक्ष को कोई नुक्सान नहीं होगा। उन्होंने कहा कि यदि इससे पता चलता है मूल रूप से की मौके पर क्या है, उससे किसी पक्ष को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

अधिवक्ता शिवम गौंड ने बताया कि इसे और निष्पक्ष बनाने के लिए हमने वीडियोग्राफी की भी मांग की थी कि यदि यह सर्वेक्षण वीडियोग्राफी में आ जाता है तो कल को किसी भी प्रकार का कोई विस्मय बाकी नहीं रह जाएगा। इसे न्यायालय ने न्याय संगत बताते हुए सही ठहराया है। अनुमति दी है। उन्होंने बताया की यह पूरा खसरा संख्या 9130 की होगी। इसमें वादी प्रतिवादी और कोर्ट कमिश्नर और उनके सहयोगियों के साथ कुल 28 लोग सर्वें करेंगे।

9130 खसरा नंबर का सम्पूर्ण सर्वे होगा। इसमें सम्पूर्ण ज्ञानवापी परिसर और श्रृंगार गौरी भी शामिल हैं। इसमें वादी पक्ष और प्रतिवादी पक्ष लेकर 28 लोग जाएंगे। इसके अलावा सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी किये गए हैं। पर्याप्त सुरक्षा कर्मी भी मौजूद हैं। सर्वे शाम 6 बजे तक होगा। इस काम में कम से कम तीन दिन लगेंगे।

You cannot copy content of this page