Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Cases : अदालत ने ज्ञानवापी परिसर में शिवलिंग के मिलने के जगह को सील करने के आदेश दिए

Varanasi : ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Mosque) का कोर्ट कमिश्नर का सर्वे आज समाप्त हो गया है। इस सर्वे के समाप्त होने के बाद वादिनी राखी सिंह के अधिवक्ता हरिशंकर जैन (Advocate Harishankar Jain) ने सिविल कोर्ट सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर की अदालत (court) में याचिका दायर करते हुए कहा है कि सोमवार 16 मई को एक शिवलिंग (Shivling) मस्जिद परिसर (mosque complex) में पाया गया है जो कि बहुत ही महत्वपूर्ण साक्ष्य है इसलिए CRPF कमांडेंट (CRPF Commandant) को उसे सील करने का आदेश दिया जाए। इस याचिका को स्वीकारते हुए सिविल कोर्ट ने जिलाधिकारी (District Magistrate) को उस स्थान को सील करने और वहां किसी के भी प्रवेश को वर्जित करने का आदेश पारित कर दिया है।

वहीं कोर्ट कमिश्नर की रिपोर्ट के आने के पहले सर्वे की गोपनीय रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट में पेश करते हुए डाली गयी इस याचिका पर घमासान मचा हुआ है।

जानकारी के अनुसार, वादिनी के अधिवक्ता हरिशंकर जैन ने सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर के यहां सोमवार की सुबह याचिका संख्या 78 ग डाली जिसमे कहा गया कि सोमवार 16 मई को मस्जिद काम्प्लेक्स के अंदर दौरान कमीशन पाया गया। यह बहुत ही महत्वपूर्ण सांख्य है। इसलिए सीआरपीएफ कमांडेंट को आदेशित किया जाए कि इस स्थान को सील कर दिया जाए और जिलाधिकारी वाराणसी को आदेशित किया जाए कि मुसलमानों का उस स्थान पर प्रवेश मात्र 20 मुसलमानों को वहां नमाज अदा करने की अन्यमती दी जाए और उन्हें भी तत्काल वजू करने से भी रोका जाए।

हरिशंकर जैन ने आगे अपनी याचिका में कहा है कि दौरान कमीशन मस्जिद काम्प्लेक्स में शिवलिंग प्राप्त हुआ है अतः उसे संरक्षित किया जाना अति आवश्यक है न्यायहित में प्रार्थना पात्र स्वीकार किया जाए।

इस प्रार्थना पात्र को स्वीकार करते हुए सिविल जज सीनियर डिवीजन रवि कुमार दिवाकर ने जिलाधिकारी वाराणसी को आदेशित किया है कि जिस स्थान पर शिवलिंग प्रात हुआ है उस स्थान को तत्काल प्रभाव से सील कर दें और सील किये गए स्थान पर किसी भी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित कर दें। कोर्ट ने यह भी आदेश दिया है कि जिलाधिकारी, पुलिस कमिश्नर, सीआरपीएफ कमांडेंट जिस स्थान को सील किया गया है उस स्थान को संरक्षित एवं सुरक्षित रखने की पूर्णतः व्यक्तिगत जिम्मेदारी उपरोक्त समस्त अधिकारियों की व्यक्तिगत रूप से मानी जायेगी।

You cannot copy content of this page