Breaking Crime Varanasi उत्तर प्रदेश ऑन द स्पॉट पूर्वांचल 

Varanasi Gyanvapi Mosque Survey : कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा हटाए गए, अदालत ने अपने आदेश में ये बात कही

Varanasi : ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे (Gyanvapi Mosque Survey) मामले में सिविल जज सीनियर डिवीजन (Civil Judge Senior Division) रवि कुमार दिवाकर (Ravi Kumar Diwakar) की अदालत ने मंगलवार को बड़ा फैसला दिया। सिविल जज सीनियर डिवीजन ((Civil Judge Senior Division) ने कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा (Court Commissioner Ajay Mishra) को इस पूरी कार्रवाई से हटा दिया है। सूत्रों की मानें तो ऐसा उनके द्वारा मीडिया में सर्वे की बात लीक करने और कमीशन की कार्रवाई में रूचि में न लेने को लेकर किया गया है। उक्त बातें विशेष अधिवक्ता विशाल सिंह ने कोर्ट के सामने रखी थीं।

इस संबंध में विशाल सिंह ने कोर्ट में कहा कि उन्हें बतौर विशेष कोर्ट कमिश्नर नियुक्त किया गया है और अन्य दो लोगों को भी कमिश्नर नियुक्त किया गया पर वो कमीशन की कार्रवाई में पूरी तरह रुचि नहीं ले रहे हैं। कोर्ट कमीशन की कार्रवाई में सहयोग भी नहीं कर रहे हैं। इसके अलावा मुझे रिपोर्ट भी बनानी पड़ रही है। मुझे अपने लोगों की सहायत लेनी पड़ रही है ऐसे में कोर्ट परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए स्थिति स्पष्ट करें और आदेश पारित करें ताकि न्याय हो सके।

कोर्ट ने अपने आदेश में लिखा है कि इसपर मौके पर मौजूद अधिवक्ता कमिश्नर अजय मिश्रा और सहायक अधिवक्ता अजय प्रताप सिंह के द्वारा न्यायालय के समक्ष उपस्थित होकर मौखिक रूप से कहा गया कि उनके द्वारा पूर्णतः सहयोग किया जा रहा है किंतु विशेष अधिवक्ता विशाल सिंह के द्वारा न्यायालय के समक्ष कहा गया कि अधिवक्ता आयुक्त अजय कुमार मिश्रा ने निजी कैमरामैन आरपी सिंह को रखा था जो बराबर मीडिया में गलत बाइट दे रहे हैं, इस कारण से उनको कल कमीशन की कार्रवाई से बाहर किया गया है। अधिवक्ता आयुक्त द्वारा इस बात की पुष्टि भी की गयी है।

कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि अधिवक्ता अजय ने अपने पदीय दायित्वों का निर्वाहन गैर जिम्मेदाराना तरीके से किया है। उनके निजी कैमरामैन द्वारा लगातार मीडिया में बाइट दी गयी जो न्यायिक मर्यादा के सर्वथा प्रतिकूल है।

ऐसे में कोर्ट ने कमिश्नर अजय मिश्रा को तत्काल प्रभाव से हटाया जाता है। 12 मई के बाद हुए कोर्ट कमीशन की कार्रवाई की रिपोर्ट विशेष अधिवक्ता विशाल सिंह अपने हस्ताक्षर से जमा कराएंगे और सहायक अधिवक्ता कमिश्नर अजय प्रताप सिंह इसमें उनका सहयोग करेंगे। वह स्वयं से कुछ भी नहीं करेंगे।

You cannot copy content of this page