Health Varanasi 

विश्व ह्रदय रोग दिवस : संतुलित आहार के साथ करें योग, दूर रहेगा रोग

Varanasi : अव्यस्थित जीवनशैली, खानपान पर ध्यान न देना, शराब व धूम्रपान लोगों में अन्य गंभीर बीमारियों की ही तरह ह्रदय रोग को भी बढ़ा रहा है।

यही कारण है कि सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं अब युवा भी ह्रदय रोग के शिकार हो रहे हैं। ह्रदय रोग के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए ही प्रति वर्ष 29 सितम्बर को ‘विश्व ह्रदय रोग दिवस’ मनाया जाता है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संदीप चौधरी ने बताया कि इस रोज जिले के सभी सरकारी चिकित्सालयों में कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों को ह्रदय रोग के खतरे और उससे बचाव के उपाय के बारे में जानकारी दी जायेगी।

शिव प्रसाद गुप्त मण्डलीय चिकित्सालय के ह्रदयरोग विशेषज्ञ डा. अंजन श्रीवास्तव कहते हैं कि एक समय था जब यह रोग सिर्फ बुजुर्गो में देखने को मिलता था लेकिन बदलती जीवन शैली के कुप्रभाव का नतीजा है कि अब यह रोग सिर्फ बुजुर्गो में ही नहीं युवाओं में भी होने लगा है। यूं कहें कि अब हर उम्र के लोग ह्रदय रोग के शिकार हो रहे हैं।

वह कहते हैं कि थोड़ी सी सावधानी हमें ह्रदय रोग होने से बचा सकती है। इसके लिए हमें सुव्यवस्थित दिनचर्या के साथ-साथ खानपान व व्यायाम पर भी ध्यान देना होगा।

तनाव से दूर रहने के साथ ही हमें हर रोज कम से कम सात-आठ घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए।

You cannot copy content of this page