पूर्वांचल वाराणसी 

पहली बारिश में CRPF के जवानों ने लगाए पौधे: वृक्षों के संरक्षण की शपथ दिलाई गई, DIG ने Environment सुरक्षित रखने के कई स्तरों को बताया

Varanasi : बढ़ता हुआ ताप एक जटिल समस्या है। आये दिन पेड़ों की कटाई और प्रदूषण से पर्यावरण को बेहद नुकसान का सामना करना पड़ता है। इसका असर इंसानों और दूसरे जीवों पर भी पड़ रहा। इसका उपाय बस यही है कि ज़्यादा से ज़्यादा पेड़ लगा कर पर्यावरण को सुरक्षित किया जाए।

बारिश के साथ ही नदियों के कटाव को रोका जाए। पर्यावरण संरक्षण और पौधरोपण के तहत वृक्षों की कटाई और पर्यावण पर उसके दुष्प्रभाव की ओर ध्यान कराते हुए गुरुवार को दीप ग्रुप के चेयरमैन डॉ. अखिलेश ने CRPF 95 बटालियन के तत्वाधान में एक शानदार पहल की, जिसमें DIG CRP सुरेंद्र चौधरी ने अपना पूर्ण सहयोग दिया।

कार्यक्रम के तहत, जुलाई 2024 से लेकर एक वर्ष पर्यन्त जुलाई 2025 तक लगभग 10 करोड़ पौधों का रोपण, उनकी सुरक्षा, खाद, पानी की व्यवस्था का संकल्प भी लिया गया। साथ ही पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी को संकल्पित किया गया। गंगा हरीतिमा ब्रांड के ब्रांड एंबेसडर अनिल सिंह ने DIG सुरेंद्र चौधरी और कमान अधिकारी राजेश सिंह ऋतिक को अंग वस्त्र धरण कराने के साथ पौधे देकर सम्मानित भी किया।

वहां CRPF के सभी जवानों और आफिसर को शपथ भी दिलाई। DIG सुरेंद्र चौधरी ने अपने विचारों के तहत समाज को एकजुट होने के साथ ही पर्यावरण को सुरक्षित रखने के कई स्तरों को बताया। साथ ही, लोगों को उनके अधिकारों के साथ ही ज़िम्मेदारियों पर भी ध्यान देने की बात कही। उन्होंने देश की सुरक्षा, एक जवान की जिम्मेदारियों और देश के लिए बलिदान पर भी कुछ बातें कहीं। समाज को सुदृढ़ बनाने और सुरक्षित रखने के साथ ही अपनी बात को विराम दिया।

दीप के चेयरमैन डॉ. अखिलेश ने पर्यावरण के लिए वृक्षारोपण क्यों जरूरी है, बादल किस तरह बारिश करते हैं और वृक्षों का उनमें क्या योगदान होता है के विषय पर जानकारी दी। सौर ऊर्जा के प्रयोग से होने वाले लाभ कोभी बताया, जैविक खेती के लाभ, जैविक खेती से मिट्टी को उर्वरता किस तरह मिलता है और पर्यावरण का क्षरण किस तरह रोका जा सकता है, जैसे महत्वपूर्ण विषयों पर प्रकाश डाला।

सृजन सामाजिक विकास न्यास के अध्यक्ष अनिल सिंह, द्वितीय कमान अधिकारी राजेश सिंह, आलोक कुमार, उप कमांडेंट
नवनीत कुमार, उमाकांत ओझा और बटालियन के तमाम जवानों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

कार्यक्रम के बाद वृक्षारोपण हुआ, जिसके तहत पहली बारिश में कुछ फलदार वृक्षों सहित नीम और पीपल के पौधों को लगाया गया, सभी ने इन पौधों की सुरक्षा का संकल्प लिया। कार्यक्रम में सभी सदस्यों ने अपने विचार व्यक्त किये, अंततः धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम को विराम दिया गया।

Related posts

You cannot copy content of this page