Exclusive 

Vat Savitri Vrat 2023: अखंड सौभाग्य के लिए आज सुहागिन महिलाएं रखेंगी वट सावित्री का व्रत, जानिए पूजा विधि और महत्व

आज वट सावित्री का व्रत रखा जा रहा है। इस व्रत को विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु और संतान प्राप्ति के लिए करती हैं। कहते हैं सावित्री ने इसी व्रत के प्रभाव से अपने पति सत्यवान के प्राण यमराज से बचाए थे।अखंड सौभाग्य के लिए आज विवाहित महिलाएं वट सावित्री का व्रत रखेंगी। इस व्रत को करने पति की उम्र लंबी होती है और उनका दांपत्य जीवन सुखमय होता है। कहते हैं कि यमराज ने माता सावित्री के पति सत्यवान के प्राणों को वट वृक्ष के नीचे ही…

और पढ़ें।
धर्म-कर्म 

Vat Savitri Vrat 2023: इन चीजों के बिना अधूरा है वट सावित्री का व्रत, नोट कर लें पूजा सामग्री और शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत का काफी महत्व है। इस व्रत को करने से सुहागिन महिलाओं को अखंड सौभाग्यवती का आशीर्वाद मिलता है। वट सावित्री व्रत में बरगद पेड़ की पूजा का विधान है। 19 मई को सुहागिन महिलाएं वट सावित्री का व्रत रखेंगे। इस व्रत को रखने से व्रतियों के पतियों को आयु लंबी होती है और उनपर मंडरा रहा हर खतरा दूर हो जाता है। हर साल ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को वट सावित्री का व्रत रखा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक,…

और पढ़ें।
Astrology धर्म-कर्म 

Hanuman Jayanti 2023: कब मनाई जाएगी हनुमान जयंती, जानें बजरंगबली की पूजा विधि और महाउपाय

हिंदू धर्म में पवनपुत्र हनुमान की साधना-आराधना का बहुत महत्व है। बजरंगबली की साधना कोई भी व्यक्ति कभी भी कर सकता है, लेकिन उनकी पूजा के लिए मंगलवार और शनिवार का दिन बेहद शुभ माना गया है। इन दोनों दिनों के अलावा भी साल में एक ऐसा दिन आता है, जिस दिन हनुमत साधना करने पर शीघ्र ही बजरंगबली की कृपा बरसती है। हिंदू धर्म में इसे हनुमान जयंती पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस साल यह पर्व 06 अप्रैल 2023 को मनाया जाएगा। आइए इसकी पूजा का…

और पढ़ें।
धर्म-कर्म 

कल है राम नवमी : 8 शुभ योग और पुनर्वसु नक्षत्र में होगा रामलला का जन्मोत्सव, जान लें मुहूर्त और पूजा विधि

हर साल चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को राम नवमी मनाई जाती है क्योंकि त्रेतायुग में इस तिथि को पुनर्वसु नक्षत्र में भगवान श्रीराम का जन्म दोपहर में हुआ था। उन्होंने सूर्यवंश में भगवान विष्णु के अवतार के रूप में जन्म लिया था। इस वर्ष 30 मार्च को राम नवमी मनाई जाएगी। इस बार 8 शुभ योग में राम नवमी मनाई जाएगी। इस दिन केदार योग, बुधादित्य योग, गुरु आदित्य योग बना है. उसके अलावा सर्वार्थ सिद्धि योग, रवि योग, गुरु पुष्य योग और अमृत सिद्धि योग…

और पढ़ें।
धर्म-कर्म 

Chaitra Navratri 2023: चैत्र नवरात्रि में अद्भुत संयोग में पधारेंगी देवी दुर्गा, जानें कलश स्थापना का मुहूर्त और विधि

इसबार चैत्र नवरात्रि 22 मार्च से शुरू होकर 30 मार्च समाप्त हो रही है। इस नवरात्रि बेहद अद्भुत संयोग में शुरू हो रही है। चैत्र नवरात्रि में 9 दिनों तक देवी दुर्गा के नौ अलग-अलग स्वरूपों की पूजा आराधना की जाती है। चैत्र प्रतिपदा तिथि पर घटस्थापना की जाती है और अष्टमी और नवमी तिथि पर कन्या पूजन के बाद व्रत का पारण किया जाता है। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि की शुरुआत 22 मार्च 2023, सुबह 10.52 से होगी और इसका समापन 30 मार्च 2023 को…

और पढ़ें।
धर्म-कर्म 

Mahashivratri 2023 : महाशिवरात्रि पर बन रहा है दुर्लभ संयोग, जानें शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

महाशिवरात्रि भगवान शिव और माता पार्वती की आराधना का सबसे बड़ा पर्व है। मान्यता है कि इस तिथि पर ही भगवान शंकर मां पार्वती का विवाह हुआ था। महाशिवरात्रि का त्योहार फाल्गुन महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। इस बार महाशिवरात्रि 18 फरवरी 2023 यानी शनिवार को मनाई जाएगी। महाशिवरात्रि के दिन शिव मंदिरों में विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान भोलेनाथ पृथ्वी पर मौजूद सभी शिवलिंग में विराजमान होते हैं। इसलिए महाशिवरात्रि के दिन की गई…

और पढ़ें।

You cannot copy content of this page