धर्म-कर्म 

Bada Mangal 2024: आज है साल का अंतिम बड़ा मंगल व्रत, जानिए महत्व और पूजा विधि

हिंदू धर्म में बड़ा मंगल व्रत को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। यह व्रत ज्येष्ठ मास में प्रत्येक मंगलवार के दिन रखा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, बड़ा मंगल या बुढ़वा मंगल के दिन हनुमान जी की उपासना करने से जीवन में सुख-समृद्धि आती है और व्यक्ति के सभी दुख दूर हो जाते हैं। इस विशेष दिन पर व्रत का पालन करने से भी व्यक्ति को लाभ मिलता है। आइए जानते हैं, साल का अंतिम बड़ा मंगल व्रत, पूजा विधि और महत्व ?

बड़ा मंगल 2024 तिथि
अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार ज्येष्ठ मास का आखिरी मंगलवार 18 जून 2024 के दिन पड़ रहा है और इसी दिन अंतिम बड़ा मंगल व्रत रखा जाएगा। यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसी दिन निर्जला एकादशी व्रत का पालन भी किया जाएगा। ऐसे में साधकों को हनुमान जी के साथ-साथ भगवान विष्णु की उपासना का भी अवसर प्राप्त होगा।

बड़ा मंगल का क्या है महत्व?
हिंदू धर्म ग्रंथो में यह बताया गया है कि भगवान हनुमान जी को चिरंजीव देवताओं में से एक हैं। अर्थात कलयुग में भी धरती पर हनुमान जी वास करते हैं। मान्यता है कि प्रत्येक मंगलवार अथवा बड़ा मंगल के दिन हनुमान जी की उपासना करने से व्यक्ति को रोग, दोष, भूत-बाधा इत्यादि से छुटकारा मिल जाता है। साथ ही कई प्रकार के ग्रह दोष भी दूर होते हैं। जिन लोगों की कुंडली में मंगल या शनि ग्रह की स्थिति कमजोर है, उन्हें बड़ा मंगल के दिन हनुमान जी की उपासना जरूर करनी चाहिए। ऐसा करने से ग्रहों की स्थिति अनुकूल होती है और जीवन में सुख-समृद्धि आती है।

बड़ा मंगल पूजा विधि
बड़ा मंगल के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान-ध्यान करें और सूर्य देव को जल प्रदान करें। इसके बाद हाथ में जल लेकर मंगलवार व्रत का संकल्प लें। ऐसा करने के बाद हनुमान जी की विधिवत उपासना करें और गंध, पुष्प, धूप, दीप इत्यादि अर्पित करें। इस दौरान हनुमान जी के मंत्र और स्तोत्र का पाठ जरूर करें। साथ ही पूजा के दौरान हनुमान चालीसा व बजरंग बाण का पाठ करने से भी लाभ प्राप्त होगा। हनुमान जी को बूंदी या बेसन के लड्डू का भोग अवश्य लगाएं और हनुमान जी की आरती के साथ पूजा संपन्न करें।

Related posts

You cannot copy content of this page