धर्म-कर्म 

कभी किसी के हाथ में न रखें ये 5 चीजें, किस्मत जाएगी रूठ, धन का होगा नुकसान

हमेशा बड़े-बुजुर्गों के द्वारा हमें समझया जाता है कि, पैसों का लेन-देन बहुत सोच समझकर करना चाहिए। लेकिन धन के साथ ही कुछ अन्य चीजें भी हैं जिनको किसी के हाथ में बेहद सोच-समझकर आपको रखना चाहिए, माना जाता है कि इन चीजों को किसी के हाथ में देने से आपको आर्थिक नुकसान हो सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में ही जानकारी देने जा रहे हैं।

किसी के हाथ में न दें ये चीजें

आपको कभी भी पीली सरसों किसी के हाथ में नहीं देनी चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं, तो माना जाता है कि अपनी लक्ष्मी आप दूसरे के हाथों में दे देते हैं। इसलिए ये गलती करने से आपको बचना चाहिए। आपकी आर्थिक स्थिति के लिए ऐसा करना नुकसानदायक हो सकता है।

नमक से जुड़े कई उपायों और सावधानियों के बारे में आपने सुना होगा। नमक एक ऐसा पदार्थ है जिसका इस्तेमाल सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह के कार्यों में किया जाता है। इसलिए आपको कभी भी किसी के हाथ से अपने हाथ में नमक नहीं लेना चाहिए ना ही अपने हाथ से किसी के हाथ में नमक देना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि अगर आप किसी के हाथ से अपने हाथ में नमक लेते हैं तो आप हमेशा के लिए उसके कर्जदार बन जाते हैं, वहीं नमक देने वाले के जीवन में भी आर्थिक परेशानियां आने लग जाती हैं।

इन चीजों के अलावा अपना रुमाल भी आपको कभी किसी के हाथ में नहीं देना चाहिए। रुमाल अगर आप किसी के हाथ में देते हैं तो इसका बुरा असर आपके आर्थिक पक्ष पर पड़ता है। इसकी वजह से आप कर्ज तले दब सकते हैं। इसके साथ ही पारिवारिक जीवन में भी आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

वैसे तो जल के दान को महादान कहा जाता है लेकिन कभी भी आपको किसी के हाथ में पानी डालकर उसे नहीं पिलाना चाहिए। अगर आप इस तरह किसी को पानी पिलाते हैं तो ये आपके लिए भी और सामने वाले के लिए भी शुभ नहीं माना जाता। ऐसा करने से दोनों ही कर्ज तले डूब सकते हैं। हां, आप किसी बर्तन में पानी डालकर किसी को पिलाते हैं तो दान का पुण्य आपको प्राप्त होता है।

मान्यताओं के अनुसार लाल मिर्च कभी किसे के हाथ में नहीं देनी चाहिए। ऐसा करने से सामने वाले व्यक्ति के साथ आपके संबंध खराब हो सकते हैं, रिश्तों में कड़वाहट आ सकती है। ऐसा करने से मधुर से मधुर संबंधों में भी खटास आने की संभावना रहती है।

Related posts

You cannot copy content of this page