धर्म-कर्म 

Vastu Tips: घड़ी से जुड़ी इन बातों का जरूर रखें ध्यान, वरना बिगड़ सकता है आपके घर का समय

अपना हर काम, हम समय के अनुसार या समय देखकर ही करते हैं और समय देखने के लिए घर में या ऑफिस में एक घड़ी की आवश्यकता तो होती है। ऐसे में जरूरी है कि हम घड़ी को उचित दिशा में लगाएं। क्योंकि घड़ी कि दिशा हमारे काम और उसके नतीजे की दिशा तय करने में सहायक है। वास्तु के अनुसार घड़ी को घर या ऑफिस की पूर्वी, पश्चिमी या उत्तरी दिशा की दिवार पर लगाना चाहिए। ये दिशाएं घर में सकारात्मक ऊर्जा लाने का काम करती हैं और इन दिशाओं में घड़ी लगाने से हमारा समय अच्छा बना रहता है और सारे काम भी बिना किसी अड़चन के अच्छे से हो जाते हैं। इसलिए घड़ी लगाते समय इन दिशाओं में से किसी एक का चुनाव करना ठीक रहता है।

किस दिशा में घड़ी नहीं लगानी चाहिए?
जिस प्रकार सही दिशा में घड़ी लगाने से अच्छे परिणाम देखने को मिलते हैं उसी प्रकार घर या ऑफिस में अगर गलत दिशा में घड़ी लगी हो तो यह आपके लिए नकारात्मक परिणाम ला सकती है। इसलिए सही दिशा का चुनाव करना बेहद जरूरी है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर या ऑफिस की दक्षिणी दिशा की दीवार पर घड़ी नहीं लगानी चाहिए, क्योंकि दक्षिण दिशा को यम की दिशा माना जाता है और शास्त्रों में यम को मृत्यु का देवता माना गया है। इस दिशा में घड़ी लगाने से बिजनेस के मार्ग में बाधाएं आनी शुरू हो जाती हैं। साथ ही घर के लोगों पर भी इसका नकारात्मक असर पड़ता है। घर की दक्षिण दिशा के अलावा घर के मुख्य दरवाजें के ऊपर भी घड़ी न लगाएं।

तकिये के नीचे न रखें घड़ी
आमतौर पर देखा गया है कि लोग अपने हाथ में पहनी जाने वाली घड़ी को सोते समय अपने तकिये के नीचे रखकर सोते हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार घड़ी को कभी भी तकिये के नीचे रखकर नहीं सोना चाहिए। तकिये के नीचे घड़ी रखकर सोने से उसकी आवाज़ नींद में खलल तो डालती ही है, साथ ही उससे निकलने वाली इलेक्ट्रो मैग्नेटिक तरंगें हमारे दिमाग और हृदय पर बुरा प्रभाव भी डालती हैं। इन तरंगों के चलते पूरे कमरे में नेगेटिव ऊर्जा पैदा हो जाती है जो आपकी मन की शांति को भंग कर देती है। साथ ही आपकी विचारधारा को नकरात्मक बना देती है।

Related posts

You cannot copy content of this page