अन्य राजनीति वाराणसी 

जनता के बुनियादी मुद्दों से कोई मतलब नहीं, अपना इवेंट ऑर्गेनाइज कराने आए थे पीएम मोदी: अजय राय

वाराणसी। लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वाराणसी में प्रथम दौरे के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने पीमए मोदी पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि उन्हें जनता के बुनियादी मुद्दों से कोई मतलब नहीं केवल अपना इवेंट ऑर्गेनाइज कराने आए थे। देश व प्रदेश की जनता आज बेरोजगारी महंगाई और चिकित्सा असुविधा से त्रस्त है, इन विषयों से इन्हें कोई लेना-देना नहीं। बनारस के अस्पतालों पर इनका कोई ध्यान नहीं, बनारस में अगले 5 साल का क्या विजन होगा इसके बारे में पीएम ने नहीं बताया। किसान परिवार को बीते दिनों भाजपा नेताओं ने प्रताड़ित किया था मारा पीटा था, लेकिन उनसे बीजेपी के कोई भी बड़े नेता मिलने नहीं जा सके।

अजय राय ने भाजपा और सरकार लगा पर गंभीर अरोप लगाते हुए कहा कि पहले काशी के प्रमुख धार्मिक स्थलों पर दर्शन पूजन निशुल्क था, लेकिन डबल इंजन की सरकार ने काशी के धार्मिक स्थल पर टैक्स लगाया। राजेंद्र प्रसाद घाट के पास एक नला बहता है गंगा जी में वहां डुबकी लगाते है। लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वाराणसी में प्रथम कार्यक्रम के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय ने पीमए मोदी पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि उन्हें जनता के बुनियादी मुद्दों से कोई मतलब नहीं केवल अपना इवेंट ऑर्गेनाइज कराने आए थे।…

विकास के नाम पर लाखों करोड़ों पेड़ों को काट दिया गया
राय ने कहा कि विकास के नाम पर लाखों करोड़ों पेड़ों को काट दिया गया जिससे जनता त्रस्त है। प्रदेश में हीट वेव से मौत हो रही है लेकिन मुआवजा न देना पड़े इसलिए पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नहीं दिखा रहे है। अजय ने कहा कि हम वाराणसी के हर बूथ पर एक-एक पौधे लगाएंगे, आज से राजीव गांधी वृक्षारोपण अभियान शुरू होगा। उन्होंने कहा कि बुनकर, महंगाई और रोजगार पर पीएम मोदी कोई बत नहीं कर रहे है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि किसी गली में इनका कार्यक्रम नहीं लगता है, न ही किसी किसान के घर पर लगता है। कल का इनका सुपर कार्यक्रम फ्लॉप रहा था।

संसदीय क्षेत्र से जुड़े मुद्दों पर नौ सवाल किए गए
प्रधानमंत्री के सामने उनके संसदीय क्षेत्र से जुड़े मुद्दों पर नौ सवाल रखे और पूछा कि इन पर ध्यान क्यों नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि नमामि गंगे परियोजना पर 20,000 करोड़ रुपए खर्च करने के बावजूद गंगा नदी ‘‘पहले से भी अधिक प्रदूषित” क्यों है? उन्होंने यह भी प्रश्न किया कि लोकसभा चुनाव के दौरान वाराणसी संसदीय सीट पर 33 उम्मीदवारों के नामांकन पत्र खारिज क्यों कर दिए गए। रमेश ने ‘एक्स’ पर लिखा, ‘‘कई दौर की मतगणना में अजय राय से पिछड़ने और किसी तरह जीत हासिल करने में कामयाब होने के कुछ हफ्ते बाद आज ‘एक तिहाई’ प्रधानमंत्री फिर से वाराणसी का दौरा कर रहे हैं। यह वाराणसी के लोगों द्वारा उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव जैसा था। ये वाराणसी पर केंद्रित 9 सवाल हैं, जो हमने चुनाव प्रचार अभियान के दौरान उनसे पूछे थे। हम आज उन्हें फिर से याद दिलाना चाहते हैं।”

नमामि गंगे परियोजना बुरी तरह विफल
प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी सीट पर कांग्रेस के अजय राय को हराया था। रमेश ने लिखा, ‘‘प्रधानमंत्री की नमामि गंगे परियोजना इतनी बुरी तरह विफल क्यों हो गई? 20,000 करोड़ रुपये खर्च करने के बाद गंगा और प्रदूषित क्यों हो गई?” उन्होंने कहा कि जल शक्ति मंत्रालय का दावा है कि नदी की स्थिति में काफी सुधार हुआ है, लेकिन जैसा कि इस सरकार के मामले में अक़्सर होता है, वह दावा भी झूठा निकला। रमेश के अनुसार, ‘‘ ‘संकट मोचन फाउंडेशन’ ने पाया कि सुधार के बजाय, गंगा में पानी की गुणवत्ता वास्तव में लगातार खराब हो रही है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भी पाया कि पानी की गुणवत्ता उनके मानकों के अनुरूप नहीं है।” उन्होंने लिखा, ‘‘पिछले साल केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने गंगा को भारत की सबसे प्रदूषित नदी घोषित किया था। ऐसे में ‘एक तिहाई’ प्रधानमंत्री को स्पष्ट करना चाहिए कि उन्होंने प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल की शुरुआत में देश के लोगों से किए गए सबसे महत्वपूर्ण वादों में से एक को कैसे पूरा किया है?’

कांग्रेस नेता ने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव के दौरान वाराणसी लोकसभा सीट के लिए केवल 7 उम्मीदवारों के नामांकन पत्र स्वीकार किए गए, जबकि 2019 में 26 और 2014 में 42 नामांकन पत्र स्वीकार किए गए थे। उन्होंने दावा किया, ‘‘जिस दिन प्रधानमंत्री ने अपना नामांकन दाखिल किया था, 33 अन्य नामांकन खारिज कर दिए गए।” उन्होंने दावा किया कि उम्मीदवारों को भी सामान्य से अधिक समय तक प्रतीक्षा करनी पड़ी, उनके हलफनामों को मनमाने ढंग से खारिज कर दिया गया। रमेश ने कहा कि प्रक्रिया पूरी होने तक उनमें से 8 ने आरोप लगाया कि प्रक्रिया में धांधली हुई थी। कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘क्या नरेन्द्र मोदी ने यह जानते हुए धांधली करने का प्रयास किया कि यह चुनाव उनके लिए कठिन था?

” रमेश ने प्रधानमंत्री के लिए ‘एक्स’ पर ये प्रश्न भी साझा किये कि बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के हृदय रोग विभाग में 47 में से 41 बिस्तर पिछले दो वर्षों से इस्तेमाल में क्यों नहीं हैं और वाराणसी बंदरगाह विफल क्यों हो गया जिसका हजारों करोड़ रुपये खर्च करने के बाद 2019 में उद्घाटन किया गया था। उन्होंने कहा, ‘‘सबसे पहले तो वाराणसी के लोगों को बताया गया कि यह परियोजना उनके लिए उपहार है, जबकि इसके लिए धन तो जनता के कर के पैसे से ही आया। अब बंदरगाह पर कामकाज नहीं हो रहा। 2021 में ‘डबल अन्याय सरकार’ ने अपनी इस विफलता का निजीकरण करने का निर्णय लिया और किसी को आश्चर्य नहीं हुआ कि इसके लिए अडाणी पोर्ट्स बोली लगाने वाली एकमात्र कंपनी थी।” रमेश ने कहा, ‘‘ ‘एक तिहाई’ प्रधानमंत्री हर एक राष्ट्रीय संसाधन को अडाणी को सौंपने के लिए इतने उतावले क्यों हैं? इस पोर्ट की पूर्ण विफलता और इसमें धन के बंदरबांट की कोई जांच क्यों नहीं की जा रही है?” रमेश ने यह भी पूछा कि प्रधानमंत्री ने वाराणसी के उन गांवों को उनके हाल पर क्यों छोड़ दिया, जिन्हें उन्होंने ‘गोद लिया’ था?

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी द्वारा गोद लिए गए गांवों की स्थिति हमें उनकी सेवा भावना के बारे में बहुत कुछ बताती है। प्रधानमंत्री ने अपने ‘गोद लिए हुए’ गांवों को क्यों छोड़ दिया है? क्या यही ‘मोदी की गारंटी’ का असली रूप है? कांग्रेस महासचिव ने प्रश्न उठाया कि प्रधानमंत्री वाराणसी में महात्मा गांधी की विरासत को ‘‘नष्ट करने पर क्यों तुले हुए हैं?” उन्होंने लिखा, ‘‘यह तो सभी जानते हैं कि ‘एक तिहाई’ प्रधानमंत्री की विचारधारा गांधी की नहीं, गोडसे की है। उन्होंने हमारे राष्ट्रपिता के प्रति अपनी नफ़रत को इस हद तक बढ़ा दिया है कि उन्होंने आचार्य विनोभा भावे द्वारा शुरू किए गए और डॉ. राजेंद्र प्रसाद, लाल बहादुर शास्त्री और जयप्रकाश नारायण जैसी हस्तियों से जुड़े सर्व सेवा संघ को ही नष्ट कर दिया।”

Related posts

You cannot copy content of this page