उत्तर प्रदेश पूर्वांचल राजनीति वाराणसी 

PM Modi के VNS आगमन की तैयारियां तेज : SPG ने हेलीपैड के लिए निर्माण कार्य का निरीक्षण किया, बैरिकेडिंग की उचित व्यवस्था के निर्देश दिए

Varanasi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 18 जून को आगमन के मद्देनजर स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) के अधिकारियों की टीम वाराणसी पहुंची है। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों के साथ एसपीजी के अफसरों ने प्रधानमंत्री के रूट और कार्यक्रम स्थलों की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया है। टीम ने मेहंदीगंज सभा स्थल पर पीएम की सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की। इसके बाद टीम के सदस्य दशाश्वमेध घाट पहुंचे, जहां उन्होंने आरती स्थल का गहन निरीक्षण किया। टीम ने मुख्य मार्ग और वैकल्पिक मार्ग का निरीक्षण किया। जलमार्ग से काशी विश्वनाथ मंदिर जाने के रूट की भी समीक्षा की। काशी विश्वनाथ मंदिर पहुंचकर उन्होंने आवागमन का रूट तय किया। पीएम के आगमन पर सुरक्षा बिंदुओं को निर्धारित किया। पीएम मोदी के तीसरे कार्यकाल पर धन्यवाद जताने के लिए काशी आएंगे और कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। इसके लिए एसपीजी टीम ने शनिवार को जेसीपी के नेतृत्व में मेहदीगंज जनसभा स्थल का गहन निरीक्षण किया। जनसभा स्थल पर पीएम की सुरक्षा, पार्किंग, जनता के आवागमन, नेताओं के रूट समेत प्रमुख बिंदुओं की जानकारी ली गई। सुरक्षा दायरा, आंतरिक और बाह्य सुरक्षा की भी समीक्षा की गई। हेलीपैड के लिए निर्माण कार्य का निरीक्षण किया और बैरिकेडिंग की उचित व्यवस्था के निर्देश दिए। पीएम नरेंद्र मोदी 18 जून को काशी दौरे में देशभर को हजारों करोड़ की सौगात देंगे। काशी से पीएम किसान सम्मान निधि योजना की 17वीं किस्त जारी करेंगे। पीएम बटन दबाकर देशभर के 9.3 करोड़ किसानों के खाते में 20 हजार करोड़ से अधिक की धनराशि ट्रांसफर करेंगे।इसके अलावा लगभग 300 किसानों को आवास का उपहार भी देंगे। उनके कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की जा रही है। भाजपा नेताओं के अनुसार, पीएम 21 किसानों से मुलाकात करेंगे। यह पीएम मोदी के तीसरे कार्यकाल की सबसे पहली परियोजना है। प्रधानमंत्री का सुरक्षा घेरा पांच स्तरीय होता है। एसपीजी के अलावा उनकी सुरक्षा में एनएसजी के कमांडो, केंद्रीय खुफिया एजेंसियों के अधिकारी, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल, एटीएस के कमांडो, स्थानीय पुलिस और लोकल इंटेलिजेंस यूनिट के कर्मी तैनात रहते हैं। काशी आगमन के दौरान प्रधानमंत्री के बाह्य सुरक्षा घेरे में 10 हजार से ज्यादा पुलिस-पीएसी व केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के जवान तैनात रहेंगे। प्रधानमंत्री की आवाजाही के रूट पर रूफ टॉप फोर्स तैनात की जाएगी। कार्यक्रम स्थल सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में रहेंगे और आयोजन संपन्न होने तक कार्यक्रम स्थल नो फ्लाइंग जोन रहेगा।

Related posts

You cannot copy content of this page